Breaking

Friday, 30 March 2018

हनुमान जयंती 2018: हनुमान जयंती पर यह पूजा का शुभ मुहूर्त

हनुमान जयंती पर यह पूजा का शुभ मुहूर्त

भगवान शिव के 11वें अवतार माने जाते हैं बजरंग बली। कहा जाता है कि इनके मात्र नाम लेने से कई प्रकार के कष्ट दूर हो जाते हैं। हर साल चैत्र शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को हनुमान जयंती मनाई जाती है। इस साल यह 31 मार्च को आयोजित की जाएगी। ज्योतिषियों की मानें तो हनुमान जयंती 30 मार्च को शाम 07:35 से 31 मार्च को शाम 6 बजे तक है।

उदया तिथि होने के कारण 31 मार्च को ही यह पर्व मनाया जाएगा। इसलिए साम 6 बजे तक पूजा किया जाना शुभ रहेगा। सुबह 9 बजे से 11 बजे तक राहुकाल रहेगा। ऐसा भी कहा जाता है कि 31 मार्च की रात्रि को हनुमान जी की पूजा करने से विशेष फल मिलता है क्योंकि ऐसी मान्यता है कि पूर्णिमा की रात्रि में ही हनुमान जी का जन्म हुआ था।

हनुमान जयंती के दिन हनुमान चालीसा या सुन्दरकांड का पाठ करना अच्छा माना जाता है।

हनुमान जयंती 2018: हनुमान जयंती 31 मार्च को पूरे देश में मनाई जाएगी। चैत्र मास की पूर्णिमा को हनुमान जयंती मनाई जाती है। कहा जाता है भगवान बजरंग बली की पूजा में कई नियमों का पालन करना चाहिए। ऐसी मान्यता है कि चैत्र माह की पूर्णिमा को ही हनुमान जी का जन्म हुआ था। इस दिन हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए कई प्रकार के उपाय किए जाते हैं। यहां हम आपको बता रहे हैं कुछ पूजा और नियमों के बारे में जिनका बजरंग बली की पूजा में खास ध्यान रखना चाहिए।

हनुमान जयंती के दिन अगर व्रत रखते हैं तो इस दिन नमक का सेवन नहीं करना चाहिए। जो भी वस्‍तु दान दें विशेष रूप से मिठाई तो उस दिन स्‍वयं मीठे का सेवन ना करें।

अगर हनुमान जयंती पर व्रत रख रहे हैं तो आपको बता दें कि हनुमान जी के व्रत मीठे रखे जाते हैं। इसलिए इस दिन भी भूलकर भी नमक नहीं खाना चाहिए।

हनुमान जी की पूजा में काले रंग के कपड़े बिल्कुल नहीं पहनने चाहिए। हनुमान जी की पूजा लाल रंग या पीले रंग के कपड़े पहनकर करनी चाहिए।

शुद्धता का ध्यान: हनुमान जी की पूजा में साफ और शुद्धता का खास ध्यान रखना चाहिए। इस दिन अगर भगवान का प्रसाद बनाएं तो महाधोकर पवित्र मन से काम करना चाहिए। इसके अलावा ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।


No comments:

Post a Comment